Thursday, May 24, 2018

ईसाई मिशनरियां नही आ रही है बाज, जबरन बना रहे है ईसाई

24 May 2018

🚩ईसाई मिशनरियां भारत में इतनी सक्रिय है कि शाम-दाम-दंड-भेद कि नीति अपनाकर हिन्दुओं का धर्मपरिवर्तन करवाया जा रहा है । 

🚩रोमन केथोलिक चर्च का एक छोटा राज्य है जिसे वेटिकन बोलते है । अपने धर्म (ईसाई) के प्रचार के लिए वे हर साल​ करीब 17 हजार करोड़ डॉलर खर्च करते है ।
Christian missionaries are not coming,
forcibly evangelical Christian


🚩भारत में जनसंख्या अधिक है और जनता भोली भी है इसलिए ईसाई मिशनरियों की चाल समझ नही सकती इसलिए उनके बहकावे में आकर धर्मपरिवर्तन कर लेती है। 

🚩वेटिकन सिटी का एक बड़ा टारगेट है जो भारत देश को एक ईसाई देश बनाना चाहता है जिसके कारण वे अपनी वोटबैंक खड़ी करके खुद कि सरकार बना सके और फिर से भारत को गुलाम बना सके पर इनके आड़े जो भी हिंदुनिष्ठ या साधु-संत आते है उनकी या तो हत्या कर दी जाती है या मीडिया द्वारा बदनाम करके जेल भिजवाया जाता है ।

🚩अभी यूपी के मेरठ से जबरन धर्म परिवर्तन का मामला सामने आया है।  अतरौली के डीडीयू जीकेवाई इंस्टिट्यूट ट्रेनिंग सेंटर के संचालकों ने वहां पढ़ने वाली छात्राओं पर ईसाई धर्म अपनाने का दबाव बनाया। इस मामले में छात्राओं ने एसपी ग्रामीण को लिखित शिकायत दी है। 

🚩ट्रेंनिग सेंटर में पढ़ने वाली छात्राओं ने बताया कि ईसाई बन कर नहीं पढ़ने पर लड़कियों को कॉलेज से निकाल दिया गया। छात्राओं का कहना है कि इंस्टिट्यूट चलाने वालों ने कहा कि ईसाई बन जाओ और गले में ईसाई धर्म का लॉकेट पहनकर क्लास में आना है और कोई भी बाहर से चेकिंग करने आता है तो अपने आपको  ईसाई बताना। करीब ऐसी दो दर्जन लड़कियां हैं जिनको ट्रेनिंग के नाम पर ईसाई बनाया जा रहा है।

🚩बताया जा रहा है कि इंस्टिट्यूट में ईसाई इसलिए बनाया जा रहा है कि यहां ओबीसी और जनरल कि सीट नहीं है। यहां एससी कि सीटें खाली है इंस्टीट्यूट के लोग चाहते हैं कि यहां ट्रेनिंग करने वाले धर्म बदल कर पढ़ाई करें। छात्राओं का कहना है कि अगर उन्हें ईसाई कि जरूरत है तो हमारा धर्म परिवर्तन क्यों करा रहे हैं। अतरौली के गोधा रोड स्थित इस इंस्टिट्यूट में होटल मैनेजमेंट, बिजनेस बैंकिंग सहित कई कोर्सेज में प्रशिक्षण दिया जाता है। यहां स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत प्रशिक्षण दिया जाता है। छात्राओं का कहना है कि ट्रेनिंग सेंटर के मैनेजर उनसे अभद्रता भी करते हैं। जिसेक चलते कई छात्राओं ने प्रशिक्षण बीच में ही छोड़ दिया। धर्म और जाति के नाम पर यहां बरगलाया जाता है। छात्राओं ने एक लिखित तहरीर एसपी ग्रामीण को दी है। एसपी ग्रामीण ने पूरे मामले कि जांच क्षेत्राधिकारी अतरौली को दिया और करवाई का भरोसा दिलाया ।  स्त्रोत : न्यूज़ 18

🚩आपने पढ़ा ईसाई धर्म कितना खतरनाक है जबरन धर्मपरिवर्तन तो करवाते ही है साथ मे लड़कियों से छेड़छाड़ी भी करते है जिसके कारण लड़कियों को पढ़ाई भी छोड़नी पड़ रही है सनातन हिन्दू धर्म में तो स्त्री का बड़ा सम्मान है बड़ी को मां समान, समकक्ष को बहन समान और छोटी को बेटी समान माना जाता है और यहाँ तक नारी को देवी तुल्य माना जाता है नारी तू नारायणी बोला जाता है  और ईसाई धर्म बहन-बेटियों को बुरी नजर से देखने  कि इजाजत देता है?

🚩साईं तो 2018 साल पुराना है, मुस्लिम धर्म 1450 साल पुराना है लेकिन सनातन हिन्दू धर्म जबसे सृष्टि का प्रारंभ हुआ है तबसे है ।  ईसाई धर्म कि स्थापना यीशु ने की, मुस्लिम धर्म कि स्थापना मोहम्मद पैंगम्बर ने की लेकिन सनातन धर्म कि स्थापना किसी देवी-देवता या ऋषी-मुनियों ने नही की बल्कि ये सनातन धर्म सृष्टि उद्गम होते ही आया है सनातन धर्म ही सर्वश्रेष्ठ है इसमे भी भगवान श्री राम, भगवान श्री कृष्ण, ऋषि-मुनियों का अवतार हुआ है और दुनिया मे जितनी खोजे है वे भी भारत के ऋषि-मुनियों ने ही दिया है। सर्वे भवन्तु: सुखिनः भी सनातन धर्म ने ही चरितार्थ करवाया है।  सनातन धर्म कि महिमा इतनी महान है कि पृथ्वी को कागज और समुद्र को स्याही और सभी पेड़ो कि कलम बनाकर लिखा जाए तो भी पूरी नही हो सकती ।

🚩इतना महान सनातन धर्म को मिटाने के लिए अनेक षड्यंत्र चल रहे है इसमे मुख्य भूमिका ईसाई मिशनरियों कि है इनसे सभी हिन्दू बचकर रहें ।

🚩भारत में चलने वाली मीडिया में 90% फंडिग विदेशों से होती है इसलिए ईसाई धर्मान्तरण रोकने के लिए हिन्दू साधु-संत बीड़ा उठाते है तो उनके ऊपर ही मीडिया द्वारा इतने लांछन लगा दिए जाते है कि जिसके कारण समाज उनके प्रति नफरत करने लगता है। जैसे कि विवेकानंद जी को इन लोगो ने इतना बदनाम किया कि उनके गुरुजी कि समाधि के लिए दो गज जमीन भी नही दे रहे थे ।

🚩वर्तमान में भी ओड़िसा में लक्ष्मणानंद जी की हत्या करवा दी, जयेंद्र सरस्वती जी को झूठे केस में जेल भिजवा दिया था और हिन्दू संत आसाराम बापू को छेड़छाड़ी के झूठे केस में उम्रकैद करवा दी क्योंकि उनको अभी सबसे ज्यादा रोड़ा बन रहे थे बापू आसारामजी ।

🚩भारतवासियों को अब जागना होगा और इनके खिलाफ आवाज उठानी होगी नही तो एक के बाद एक को खत्म करके देश को गुलामी कि जंजीरों में जकड़ लेंगे ।

🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻


🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk


🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt

🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf

🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX

🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG

🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

Wednesday, May 23, 2018

ईसाई पादरी ने हिन्दू ताकतों को उखाड़ फेंकने के लिए जारी किया फरमान

23 May 2018

🚩भारत को तोड़ने के लिए सदियों से राष्ट्रविरोधी ताकतें लगी है और कई बार सफल भी हुई हैं 700 साल मुगलों ने राज किया फिर 200 साल तक अंग्रेज़ो ने राज किया इन क्रूर लुटेरों को भगाने के लिए लाखों हिंदुस्तानियों ने अपना बलिदान दिया तब स्वतंत्रता मिल पाई है।
Christian pastor issued a decree to overthrow Hindu forces


🚩वर्तमान में भी राष्ट्रविरोधी ताकतें सक्रिय हैं उसमें खासकर ईसाई मिशनरियाँ प्रमुख रूप से हैं उनका उद्देश्य है कि भारत को ईसाई देश बनाना, जबसे बीजेपी सरकार आई है तबसे कुछ अंश में उनके धर्मान्तरण पर रोक लगी है इसलिए बौखलाहट में 
देश के सभी ईसाई संगठन और चर्च एकजुट हो गए है और इन्होंने देश से 2019 में हिन्दू शक्तियों को उखाड़ फेंकने का फतवा भी दे दिया है अब सभी ईसाई और चर्च संगठन आपस के मतभेद दूर कर एक साथ काम करने पर राजी हैं इसके लिए दिल्ली के बड़े ईसाई धर्मगुरु अनिल जोसेफ थॉमस ने भी फतवा दे दिया है ।

🚩आपको बता दें कि दिसम्बर 2017 में गुजरात के चुनाव के समय  #ईसाई धर्मगुरु पादरी #आर्चबिशप #थॉमस मैकवान ने एक पत्र जारी करके लिखा था कि राष्ट्रवादी पार्टी (बीजेपी) को हरा दो।

🚩उस समय हिन्दू संत आसारामजी बापू ने जोधपुर कोर्ट से मीडिया के माध्यम से कहा था कि राष्ट्रहित करने वालों को हराना माने अपने पैर पर कुल्हाड़ी मारना हुआ, हम तो चाहते हैं देश का विश्व में जो नाम करते हैं और भारत को विश्वगुरु बनाते हैं भगवान उनके साथ हैं । 

🚩उन्होंने आगे कहा था कि जो पार्टी राष्ट्र का मंगल चाहती है, #विश्वगुरु बनाना चाहती है उनका मंगल ही मंगल होगा देखते रहो ।

🚩और हुआ भी वही उस समय GST से जनता त्रस्त थी और ईसाई पादरी भी उनके खिलाफ थे फिर भी बापू आसारामजी के समर्थन के कारण बीजेपी जीत गई ।

🚩गुजरात में भी बीजेपी जीत गई पर अब 2019 में बीजेपी को हराने के लिए सभी ईसाई संगठन पूरे देश में एक साथ मिलकर काम करेंगे ताकि देश से अगले लोकसभा चुनाव के समय हिन्दू शक्तियों को उखाड़कर फेंका जा सके ।

🚩देश में कई तरह के राजनीतिक गठबंधन भी बन रहे है ताकि वो बीजेपी को रोक सके, अब लगभग तय है कि हर राज्य में गठबंधन होंगे बीजेपी को हराने के लिए ।

🚩पर सिर्फ राजनैतिक दल ही एकजुट नहीं हो रहे बल्कि देश के इस्लामिक संगठन जैसे कि PFI इत्यादि और चर्च भी बीजेपी को हराने के लिए एकजुट हो रहे हैं ।

🚩बापू आसारामजी ने भी 50 वर्ष तक हिन्दू संस्कृति उत्थानार्थ कार्य किये हैं उन्होंने अनेक गौशालाएं खुलवाई, आदिवासी इलाकों में जीवनुपयोगी सामग्री उपलब्ध करवाई, मकान बनवाकर दिये,  लाखों हिन्दुओं कि घरवापसी करवाई जिसके कारण ईसाई धर्मान्तरण नहीं करवा पाए और वेटिकन सिटी ने इशारे पर सोनिया गांधी द्वारा उन्हें जेल भिजवाया गया और बाद में राजनैतिक प्रेशर से उम्रकैद करवा दी गई । जिसके कारण ईसाई धर्मान्तरण आसानी से हो सके । डॉ. सुब्रमण्यम स्वामी अपने वक्तव्य में कई बार इसे स्पष्ट भी कर चुके हैं ।

🚩जैसा कि हम पहले भी कई बार बता चुके हैं कि लड़की ने जिस रात का छेड़छाड़ का आरोप लगाया था उस रात तो वो किसी संदिग्ध व्यक्ति से लगातार संपर्क में थी । जिस बात कि पुष्टि कोर्ट में पेश हुए उस संदिग्ध व्यक्ति कि कॉल डिटेल और नोडल ऑफिसर के बयान से हुई है । मेडिकल रिपोर्ट में लड़की के शरीर पर एक खरोंच का भी निशान नहीं पाया गया है और लड़की के उम्र सम्बन्धी अलग अलग दस्तावेज में लड़की कि अलग अलग उम्र पाई गई है । ऐसे पुख्ता सबूतों को अनदेखा कर लड़की को नाबालिग दिखाकर सिर्फ उसके बोलने मात्र पर बापू आसारामजी को उम्रकैद देना किसी बड़े षड्यंत्र कि ओर ध्यान केंद्रित करता है । 

🚩बापू के अंदर रहने से सबसे बड़ा फायदा किसे है ये तो हमारे पाठक समझ ही गए होंगे ।

🚩जी हां! जिन मिशनरियों के आंख कि किरकरी बापू बन चुके थे सबसे ज्यादा फायदा उन्हीं को हुआ बापू आसारामजी के अंदर जाने से । बापू के अंदर जाते ही देश में धर्मांतरण ने गति पकड़ ली ।

🚩 2019 में बहुमत से बीजेपी को आना है तो धर्मान्तरण पर रोक लगाने वाले बापू आसारामजी के केस को बारिकी से देखकर उनको मुक्त कराने कि दिशा में सरकार को भी आगे आना चाहिए । इससे जो देशभर में फैले उनके करोड़ो समर्थकों के मन में सरकार से नाराजगी है वो भी दूर होगी तो वे भी बीजेपी को जिताने में आगे आएंगे ।


🚩अब बीजेपी को श्रीराममंदिर, गौहत्या और बेवजह संतों पर हो रहे अत्याचार पर रोक लगवानी चाहिए । जिससे हिंदुओं का भरोसा फिर से बीजेपी पर बढ़े और फिर से बीजेपी बहुमत से आ जाये ।
🚩आपको बता दें कि सभी ईसाई संगठन आपस में मिलकर हिन्दू शक्तियों (बीजेपी, मोदी) को देश कि सत्ता से उखाड़ फेंकने के लिए हर शहर में टीम बनाने वाले हैं और मीटिंग्स करने वाले हैं ।सभी इस रणनीति पर काम करेंगे कि कैसे भी हिन्दू शक्तियों को हराकर अपनी पसंद की सरकार बनाई जाये और इसके लिए ये जहाँ पर इनके वोटर होंगे वहां पर हिन्दू शक्तियों के खिलाफ वोट देने के फतवे चर्च से दिलवाएंगे या फिर पैसे का इस्तेमाल कर चुनाव को प्रभावित करेंगे ।

🚩हिन्दू शक्तियों को हराने के लिए मिशनरियां मदरसों और मस्जिदों कि भी मदद लेगी, हिन्दू शक्तियों के खिलाफ सभी एकजुट है बस मकसद एक ही है किसी भी प्रकार अगले लोकसभा चुनाव में हिन्दू शक्तियों (मोदी) को हटाना है ।

🚩 इनको रोकने के लिए डॉ सुब्रमण्यम स्वामी ने वैटिकन कि भारत में हो रही दखल अंदाजी को लेकर भारत सरकार से सख्त कार्यवाही करने कि मांग करी है डॉ स्वामी ने कहा है कि भारत वैटिकन से राजनैतिक संबंध तोड़ दे और दूतावास बंद कर दे, वैटिकन कि दखलंदाजी को बर्दाश्त न करे ।

🚩डॉ स्वामी ने प्रधानमंत्री से मांग करी कि वो विदेश मंत्रालय को निर्देश दें और वैटिकन से संबंध तोड़ दिया जाये साथ ही वैटिकन का जो दूतावास दिल्ली के चाणक्यपुरी में है उसे सील कर दें।

🚩डॉ सुब्रमण्यम स्वामी ने बताया कि आर्चबिशप जो भारत में हिन्दुओं के खिलाफ नफरत फैला रहा है उसे वैटिकन ने ही नियुक्त किया था वो वैटिकन का सीधा एजेंट है और उसके जरिये वैटिकन भारत में सीधा दखल दे रहा है जिसके खिलाफ सख्त कार्यवाही होनी चाहिए ।

🚩आपको बता दें कि वैटिकन के अखबारों ने भी हिन्दुओ के खिलाफ लेख लिखना शुरू कर दिया वैटिकन के एक अख़बार ने लेख लिखा है कि भारत में हिन्दुओं कि सरकार है जिसके कारण ईसाई खतरे में हैं और इसी कारण भारत से हिन्दुओ कि सरकार को हटाने कि जरुरत है ।

🚩वैटिकन के बहुत से एजेंट भारत में हैं वो वैटिकन के इशारे पर भारत में अराजकता फ़ैलाने के लिए तैयार है पिछले कई दिनों से वैटिकन के इशारे पर भारत के चर्च हिन्दुओ के खिलाफ जहर उगल रहे हैं और मोदी का नाम लेकर हिन्दुओं पर निशाना साध रहे हैं ।

🚩अभी हाल ही में दिल्ली के भी एक बिशप ने वैटिकन के इशारे पर मोदी का नाम लेकर हिन्दुओ पर निशाना साधा और कहा कि हिन्दू शैतानी ताकतें है और इन्हें अगले चुनाव में हारने के लिए प्रार्थना करो।

🚩वैटिकन ने कहा कि भारत कि सरकार प्रो हिन्दू है, और इसके चलते भारत में सभी अल्पसंख्यक खतरे में हैं और भारत में सेक्युलरिज्म का नाश किया जा रहा है भारत में सेक्युलरिज्म न हारे इसके लिए हिंदुओं कि सरकार को हटाना जरुरी है ।

🚩ये वो वैटिकन है जो कि खुद एक सेक्युलर नहीं बल्कि घोषित कट्टरपंथी ईसाई देश है पर देखिये किस प्रकार भारत में सेक्युलरिज्म के नाम पर अपने एजेंटो के अलावा खुद भी अराजकता फ़ैलाने कि कोशिश में है।

🚩अब समय आ गया है बीजेपी को हिन्दू हित के कार्य करने होंगे जैसे कि श्रीराममंदिर बनाना, गौहत्या पर रोके लगाना, हिन्दू संत और हिंदुत्वनिष्ठों पर अन्याय रुकवाना, कश्मीरी पंडितों को बसाना आदि जिसके कारण राष्ट्रविरोधी ताकतों को आसानी से परास्त कर दिया जाए ।

🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻


🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk


🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt

🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf

🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX

🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG

🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

Tuesday, May 22, 2018

जब राजपूत वीरांगना ‘किरण देवी’ से अकबर को मांगनी पड़ी अपने प्राणों कि भीख

22 May 2018
🚩राजपूत पुरुष जीतनी अपनी वीरता के लिए प्रसिद्ध थे उतनी ही प्रसिद्ध थी राजपूती महिलायें। इतिहास में अनेक ऐसी कहानियां है जो इनकी वीरता व अदम्य साहस को प्रमाणित करती है। आज हम आपको एक ऐसी ही ऐतिहासिक कहानी बताएँगे जब एक राजपूत वीरांगना ‘किरण देवी’ ने अकबर को अपने प्राणों कि भीख मांगने पर मजबूर कर दिया था !
When Rajput Veerangana 'Kiran Devi',
Akbar wanted to ask for his life
🚩अकबर प्रतिवर्ष दिल्ली में नौरोज के मेले का आयोजन करता था जिसमें वह सुंदर युवतियों को खोजता था और उनसे अपने शरीर कि भूख शांत करता है। एक बार अकबर नौरोज के मेले में बुरका पहनकर सुंदर स्त्रियों कि खोज कर ही रहा था कि उसकी नजर मेले में घूम रही किरणदेवी पर जा पड़ी।
🚩वह किरणदेवी के रमणीय रूप पर मोहित हो गया। किरणदेवी मेवाड़ के महाराणा प्रतापसिंह के छोटे भाई शक्तिसिंह कि पुत्री थी और उसका विवाह बीकानेर के प्रसिद्ध राजपूत वंश में उत्पन्न पृथ्वीराज राठौर के साथ हुआ था।
🚩अकबर ने बाद में किरणदेवी का पता लगा लिया कि यह तो अपने ही सेवक कि बिवी है तो उसने पृथ्वीराज राठौर को जंग पर भेज दिया और किरण देवी को अपनी दूतियों के द्वारा बहाने से महल में आने का निमंत्रण दिया।
🚩अब किरणदेवी पहुंची अकबर के महल में तो स्वागत तो होना ही था और इन शब्दो में हुआ, ‘‘हम तुम्हें अपनी बेगम बनाना चाहते हैं !’’ कहता हुआ अकबर आगे बढा तो किरणदेवी पीछे को हटी…अकबर आगे बढते गया और किरणदेवी उल्टे पांव पीछे हटती गयी…परंतु कब तक हटती पीछे…उसकी कमर दीवार से जा लगी।
🚩बचकर कहाँ जाओगी... अकबर मुस्कुराया, ऐसा मौका फिर कब मिलेगा तुम्हारी जगह पृथ्वीराज के झोंपडे में नहीं हमारा ही महल में है
🚩हे भगवान... किरणदेवी ने मन-ही-मन में सोचा... इस राक्षस से अपनी इज्जत कैसे बचाऊँ ? हे धरती माता.... किसी म्लेच्छ के हाथों अपवित्र होने से पहले मुझे सीता कि तरह अपनी गोद में ले लो ! व्यथा से कहते हुए उसकी आँखों से अश्रूधारा बहने लगी और निसहाय बनी धरती कि ओर देखने लगी तभी उसकी नजर कालीन पर पडी। उसने कालीन का किनारा पकडकर उसे जोरदार झटका दिया।
🚩उसके ऐसा करते ही अकबर जो कालीन पर चल रहा था पैर उलझने पर वह पीछे सरपट गिर पड़ा। ‘या अल्लाह !’ उसके इतना कहते ही किरणदेवी को संभलने का मौका मिल गया और वह उछल कर अकबर कि छाती पर जा बैठी और अपनी आंगी से कटार निकाल कर अकबर कि गर्दन पर रखकर बोली... अब बोलो शहंशाह... तुम्हारी आखिरी इच्छा क्या है ? किसी स्त्री से अपनी हवस मिटाने कि या कुछ और ?’’ एकांत महल में गर्दन से सटी कटार को और क्रोध में दहाड़ती किरणदेवी को देखकर अकबर भयभीत हो गया।
🚩एक कवि ने उस स्थिति का चित्र इन शब्दों में लिखा है ….
🚩‘‘सिंहनी-सी झपट, दपट चढी छाती पर,
मानो शठ दानव पर दुर्गा तेजधारी है।
गर्जकर बोली दुष्ट ! मीना के बाजार में मिस,
छीना अबलाओं का सतीत्व दुराचारी है।
अकबर ! आज राजपूतानी से पाला पडा,
पाजी चालबाजी सब भूलती तिहारी है।
करले खुदा को याद भेजती यमालय को,
देख ! यह प्यासी तेरे खून कि कटारी है !”
🚩“मुझे माफ कर दो दुर्गा माता’’ मुगल सम्राट अकबर गिड़गिड़ाया, तुम निश्चय ही दुर्गा हो कोई साधारण नारी नहीं मैं तुमसे प्राणों कि भीख माँगता हूँ। यही मैं मर गया तो यह देश अनाथ हो जाएगा !’ ‘ओह !’ किरणदेवी बोली, देश अनाथ हो जाएगा जब इस देश में म्लेच्छ आक्रांता नहीं आए थे तब क्या इसके सिर पर किसी के आशीष का हाथ नहीं था ? नहीं, ऐसी बात नहीं है... अकबर फिर गिड़गिड़ाया, ‘‘पर आज देश कि ऐसी स्थिति है कि मुझे कुछ हो गया तो यह बर्बाद हो जाएगा ! अरे मूर्ख देश को बर्बाद तो तुम कर रहे हो तुम्हारे जाने से तो यह आबाद हो जाएगा !
🚩‘‘महाराणा जैसे बहुत हैं अभी यहाँ स्वतंत्रता के उपासक !’’ हाँ हैं... वह फिर बोला ‘‘परंतु आर्य कभी किसी का नमक खाकर नमक हरामी नहीं करते !’’ नमक हरामी... किरणदेवी बोली, तुम कहना क्या चाहते हो ? तुम्हारे पति ने रामायण पर हाथ रखकर मरते समय तक वफादारी का कसम खायी थी और तुमने भी प्रीतिभोज में मेरे यहाँ भोजन किया था फिर यदि तुम मेरी हत्या कर दोगी तो क्या यह विश्वासघात या नमकहरामी नहीं होगी ?
🚩विश्वासघाती से विश्वासघात करना कोई अधर्म नहीं राजन, किरणदेवी फिर गरजी... ‘‘तुम कौन से दूध के धुले हो ?’’ हाँ मैं दूध का धुला हुआ नहीं पर मुझे क्षमा कर दो हिन्दुओं के धर्म के दस लक्षणों में क्षमा भी एक है इसलिए तुम्हें तुम्हारे धर्म कि कसम मुझे अपनी गौ समझकर क्षमा कर दो !
🚩पापी अपनी तुलना हमारी पवित्र गौ से मत करो... फिर वह थोडी सी नरम पड गयी, यदि तुम आज अपनी मौत और मेरी कटारी के बीच में धर्म और गाय को नहीं लाते तो मैं सचमुच तुम्हें मारकर धरती का भार हल्का कर देती ! फिर चेतावनी देते हुए बोली... आज भले ही सारा भारत तुम्हारे पांवों पर शीश झुकाता हो किंतु मेवाड़ का सिसोदिया वंश आज भी अपना सिर उचा किए खड़ा है। मैं उसी राजवंश कि कन्या हूँ।
🚩मेरी धमनियों में बप्पा रावल और राणा सांगा का रक्त बह रहा है। हम राजपूत रमणियाँ अपने प्राणों से अधिक अपनी मर्यादा को मानती हैं और उसके लिए मर भी सकते हैं और मार भी सकते हैं !
🚩यदि तु आज बचना चाहता है तो अपनी माँ और कुरान कि सच्ची कसम खाकर प्रतिज्ञा कर कि आगे से नौरोज मेला नहीं लगाएगा और किसी महिला कि इज्जत नहीं लूटेगा। यदि तुझे यह स्वीकार नहीं है तो मैं अभी तेरे प्राण ले लूंगी भले ही तूने हिन्दू धर्म और गौ कि दुहाई दी हो। मुझे अपनी मृत्यु का भय नहीं है !
🚩अकबर को वास्तव में अनुभव हुआ किन्तु मृत्यु के पाश में जकड़ा जा चुका है। जीवन और मौत का फासला मिट गया था। उसने माँ कि कसम खाकर किरणदेवी कि बात को मान लिया... मुझे मेरी माँ की सौगंध, मैं आज से संसार कि सब स्त्री जाति को अपनी बेटी समझूँगा और किसी भी स्त्री के सामने आते ही मेरा सिर झुका जाएगा भले ही कोई नवजात कन्या भी हो और कुरान-ए-पाक कि कसम खाकर कहता हूँ कि आज ही नौरोज मेला बंद कराने का फरमान जारी कर दूँगा !”
🚩वीर पतिव्रता किरणदेवी ने दया करके अकबर को छोड़ दिया और तुरन्त अपने महल में लौट आयी। इस प्रकार एक पतिव्रता और साहसी महिला ने प्राणों कि बाजी लगाकर न केवल अपनी इज्जत कि रक्षा की अपितू भविष्य में नारियों को उसकी वासना का शिकार बनने से भी बचा लिया। और उसके बाद वास्तव में नौरोज मेला बंद हो गया। अकबर जैसे सम्राट को भी मेला बंद कर देने के लिए विवश कर देनेवाली इस वीरांगना का साहस प्रशंसनीय है !
🚩(संधर्भित पुस्तके – प्रख्यात ऐतिहासिक शोध ग्रंथ: वीर विनोद, उदयपुर से प्रकाशित प्रचंड अग्नि, हिन्दी साहित्य सदन, नई देहली)
लेखिका – फरहाना ताज
स्त्रोत : इनसिस्ट पोस्ट
🚩कैसे कैसे हमारे देश मे महान नारी हो गई और आजकल हीरो-हीरोइन के चक्कर मे आकर लड़कियां अपना ही सत्यानाश कर लेती है नही तो नारी में इतनी महान शक्ति है कि राजाओं को भी गिड़गिड़ाने को मजबूर कर देती है भारत कि देवियों जागो अब अपनी महिमा में नारी तू नारायणी है।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ